! मेरी अभिव्यक्ति !

तू अगर चाहे झुकेगा आसमां भी सामने, दुनिया तेरे आगे झुककर सलाम करेगी . जो आज न पहचान सके तेरी काबिलियत कल उनकी पीढियां तक इस्तेकबाल करेंगी .

703 Posts

2169 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 12172 postid : 1337669

कभी... न देती.

Posted On: 30 Jun, 2017 Celebrity Writer में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

न रखते हैं दुनिया में कभी जीने की हम चाहत ,
तभी तो मौत दरवाजे मेरे दस्तक नहीं देती .
……………………………………………..
न खाते पेट भरने को जब खाने हम बैठें,
तभी तो रोटी थाली की कभी भी ख़त्म न होती .
………………………………………………….
नहीं हम जागना चाहें जो जाके बिस्तर पे लेटें ,
तभी तो नींद पलकों से जा कोसों दूर है बैठी .
……………………………………………………
नहीं जो चाहो दुनिया में वही हर पल यहाँ मिलता ,
जो चाहा दिल ने शिद्दत से कभी मिलने नहीं देती ……………………………………………………..
तरसती ”शालिनी” रहती सदा मन चाहा पाने को ,
कभी ख्वाबों को ये कुदरत हकीकत होने न देती .
………………………………………………………



Tags:

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

0 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments


topic of the week



latest from jagran