! मेरी अभिव्यक्ति !

तू अगर चाहे झुकेगा आसमां भी सामने, दुनिया तेरे आगे झुककर सलाम करेगी . जो आज न पहचान सके तेरी काबिलियत कल उनकी पीढियां तक इस्तेकबाल करेंगी .

745 Posts

2135 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 12172 postid : 1297229

''ये भी मुमकिन है वक़्त ले करवट .....''

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Image result for modi-amit shah image

”बस तबाही के ही आसार नज़र आते हैं ,
लोग जालिम के ही तरफदार नज़र आते हैं ,
ज़ुल्म भी हम पे ही होता है ज़माने में सदा
और फिर हम ही गुनाहगार नज़र आते हैं .”
डॉ. तनवीर गौहर की ये पंक्तियाँ आज अगर हम प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी द्वारा की गयी नोटबंदी से उपजे हालात पर गौर करें तो गुनाहगारों की भीड़ में निर्दोष आम जनता पर ही खरी उतरती हुई पाते हैं .कालाधन ख़त्म करने के मुद्दे को जोर-शोर से उठा सत्ता में आये मोदी जी ने ८ नवम्बर की रात से ५००-१००० के नोट बंद कर दिए और स्वयं के इस कदम को दुस्साहसिक कदम की श्रेणी में लिखा दिया और अपने समर्थकों को अपनी तारीफ के लिए कुछ और शब्दों का जाल दे दिया लेकिन अपने इस कदम से जिस आम जनता का उन्होंने जीना-मरना-खाना-पीना मुहाल कर दिया उसके लिए सिवाय ५० दिन मांग आंसू बहाने के स्थान पर सहयोग का ,सांत्वना का कोई कदम नहीं उठाया और वह बेचारी आम जनता जो भले ही कोई सरकार आ जाये दुखों का बोझ कंधें पर उठाकर फिरने के सिवाय कुछ नहीं कर सकती, अब भी वही कर रही है. लगभग महीना भर बीतने के बावजूद बैंकों की कतार में खड़ी है और रोज़ी रोटी को तरसती ये जनता ,भूखी प्यासी मरती ये जनता बैंकों में अपना ही पैसा होने के बावजूद अपने ही ऐसे साथियों द्वारा जो मोदी के अंध-समर्थक हैं चोर व् नाटकबाज कही जा रही हैं .मोदी के ये समर्थक इस हद तक मोदी के हाथों की कठपुतली हैं कि अपने रोजमर्रा के कामकाज बगैर पैसों के होने पर मोदी के इस कदम के खिलाफ ऊँगली उठाने वालों को ललकारते हुए कहते हैं कि ” तुम्हें कोई दिक्कत हुई ?” वे इस बात को बिलकुल नज़रअंदाज़ कर रहे हैं कि ये स्थिति हर किसी के साथ नहीं है ,हर आदमी क्रेडिट नहीं रखता ,हर आदमी को सामान मुफ्त में नहीं मिलता और यदि ये कहें कि वे दिमाग से खुद को पैदल दिखा रहे हैं तो ऐसा भी नहीं कहा जा सकता क्योंकि जैसे ही उनसे कहा जाता है कि नोटबंदी से पहले बैंकों में बदलने की व्यवस्था पूरी कर देनी चाहिए थी तो ये अंध समर्थक तपाक से कहते हैं-”वाह जी ऐसे तो सारी बात पहले ही लीक हो जाती और कालाधन कैसे बाहर आता ?”
हिन्दू समाज में देवोत्थान एकादशी से आरम्भ विवाह का मौसम मोदी के इस कदम के कारण मृत्युकाल में परिवर्तित हो गया है ,पैसे न मिलने के कारण कहीं बाप मर रहा है तो कहीं ब्याहने जा रही कन्या ही अपने परिजनों पर पड़ी विपत्ति को देख छत से कूदकर आत्महत्या कर रही है और मोदी समर्थक इसे मीडिया की कोरी अफवाह बता रहे हैं .वही मीडिया जिसे अबसे कुछ ही समय पूर्व ”मोदी महिमा मंडन” के कारण सिर आँखों पर बैठाया जा रहा था आज वही मीडिया पैरों तले कुचली जाने को विवश है क्योंकि वह आम जनता का दर्द सबके सामने ला रही है .
यही नहीं नोटबंदी इफेक्ट जो इस वक़्त सामने आ रहे हैं उनसे पूरी तरह बर्बादी की तस्वीर हमें दिखाई दे रही है .आलू बीज बाजार में मंदी,बीस लाख बोरी से अधिक आलू बीज फैंकने की नौबत से किसान मुश्किल में ,ढाबों की आमदनी घटी,करोड़ों के चेक डंप होने से ग्राहकों की परेशानी आदि बहुत सी ऐसी परेशानियां हैं जिन्हें मोदी जी की तानाशाही के रूप में आम जनता को भुगतना पड़ रहा है और मोदी जी को ये सारी जनता बेईमान ही नज़र आ रही है क्योंकि उनके अनुसार उनके इस कदम से केवल बेईमान ही परेशान हैं तो इसका साफ साफ़ मतलब सारी जनता अगर परेशान है तो सारी जनता ही बेईमान सिर्फ मोदी के अंधभक्तों को छोड़कर क्योंकि उनका काम बगैर पैसे के हो रहा है और जो मोदी जी के कैशलैस सोसायटी का सपना देखने से पहले ही उसे अमल में ला रहे है .
मोदी जी का ये कदम आम जनता को भले ही रोज़ी-रोटी के बारे में सोचने को विवश कर दे पर इनके समर्थकों व् पार्टी के लिए संजीवनी के समान समझा जा रहा है .नोटबंदी के बाद से चुनावों में मिली सफलता उन्हें उत्तर-प्रदेश को अपने कब्जे में लेने के सपने सजाने को तैयार कर रही है उसी यूपी की जनता जिसे उन्होंने रात-दिन बैंकों की लाइन में खड़े रहने को विवश कर दिया ,काले धन की सबसे बड़ी कब्जेदार मानी जाने वाली उसी यूपी की जनता को पहले राम मंदिर बनाने के नाम पर और अब नोटबंदी से भ्रष्टाचार के खिलाफ अचूक हथियार के नाम पर फुसलाया जा रहा है ,ठगा जा रहा है और नहीं देखा जा रहा है आम जनता की परेशानी को ,दिक्कत को .अपने स्वार्थ हित की पूर्ति के लिए मजबूर जनता को बैंकों के आगे कतार में खड़ा कर दिया गया जो नोट बदलने का नंबर आ जाये इस इंतज़ार में रात के २-३ बजे से ही लिहाफ लेकर बैंक के आगे लाइन में सो रही है और सुबह से भूखे पेट खड़े रहकर भी खाली हाथ घर लौट रही है और कहीं कहीं लाइन में खड़ा आदमी आता जिन्दा है और जाता लाश बनकर है .और बैंक सरकार के पास जनता की मांग के अनुरूप नोट न होने पर मजबूरीवश जनता का आक्रोश झेल रहे हैं और निरंतर खौफ में जी रहे हैं क्योंकि वे जानते हैं कि जितनी संख्या में जनता यहाँ उपस्थित है उतनी संख्या में सुरक्षा बल उन्हें प्राप्त नहीं है और अगर सुरक्षा बल यहाँ लगा दिया जाये तो देश की उन सीमाओं का क्या होगा जहाँ देश के दुश्मन निरंतर घात लगाए बैठे हैं और हमले भी कर रहे हैं .
राम मंदिर के नाम पर यूपी की जनता को पहले ही छला जा चुका है और आजतक भी उस राम मंदिर की नींव की खुदाई तक का काम शुरू नहीं हो पाया है जिसके लिए भाजपा ने खुद की खाल बचाते हुए उत्तर प्रदेश की जनता को बलिदान देने तक को विवश कर दिया और अब नोटबंदी ,बेनामी संव्यवहार ,सोने पर नियंत्रण द्वारा भ्रष्टाचार की नकेल कसने का बहाना कर जिस तरह मोदी-शाह और इनकी भाजपा ने इस देश के रहनुमा बनने का ढोंग किया है वह कितना सफल रहेगा ये तो आने वाला वक़्त बताएगा ,हमारा मन तो मात्र इतना ही कह सकता है -
”आज माना कि इक्तदार में हो .
हुक्मरानी के तुम खुमार में हो ,
ये भी मुमकिन है वक़्त ले करवट
पांव ऊपर हों सिर तगार में हो .”

शालिनी कौशिक
[कौशल]



Tags:

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (3 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

5 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

Shobha के द्वारा
December 9, 2016

प्रिय शालनी जी लेख पढ़ा आपने आलोचक की भाँती मोदी जी का विवेचन किया है कितना भी हम उनमें कमिया निकाले नकली नोटों और काले धन के खिलाफ उनका कदम क्रान्ति कारी है अच्छा था या बुरा यह समय बताएगा

sadguruji के द्वारा
December 7, 2016

आदरणीया शालिनी कौशिक जी ! सादर अभिनन्दन ! टॉप ब्लॉग में चुने जाने के लिए बधाई ! आपने अपनी प्रतिक्रया में कहा है कि मोदी जी कि चापलूसी करके भारतीयों ने ये साबित कर दिया है कि ये देश प्रजातन्त्र से नहीं बल्कि तानाशाही से चल रहा है ! मोदी जी के अच्छे कामों की तारीफ़ को आप चापलूसी कहतीं हैं, जवाहर लाल नेहरू, इंदिरा गांधी, राजिव गांधी, सोनिया गांधी, राहुल गांधी, प्रियंका गांधी की तारीफ़ को आप क्या कहेंगी? रही बात देश के वर्तमान स्वर्णिम समय को तानाशाही समझने की तो देश में एमरजेंसी किसने लगाईं थी? देशहित में किये जाने वाले अच्छे कार्यों की तारीफ़ होनी चाहिए, चाहे किसी भी दल का कोई भी नेता क्यों न करे ! पूर्वाग्रह किसी के भी प्रति पालना ठीक नहीं ! जवाहर लाल नेहरू, इंदिरा गांधी और राजीव गांधी के द्वारा हुए अच्छे कार्यों की सभी तारीफ़ करते हैं ! यदि कुछ बुरा लगा हो तो क्षमा कीजियेगा !

sadguruji के द्वारा
December 6, 2016

आदरणीया शालिनी कौशिक जी ! सादर अभिनन्दन ! दुनिया में कोई भी अमर नहीं है ! जो शासक नहीं हैं, क्या वे नहीं मरेंगे? कांग्रेस के अलावा और किसी भी पार्टी की प्राथमिक सदस्यता मैंने ग्रहण नहीं की है, किन्तु फिर भी देश के अच्छे भविष्य को देखते हुए मोदी जी के क्रांतिकारी फैसलों की तारीफ़ करता हूँ ! कल बाजार मैं गया था ! सब्जी से लेकर कई और भी बहुत सी जरुरी चीजों के दाम गिरे मिले ! महंगाई बढे तो आलोचना महंगाई घटे तो आलोचना ! दो साल से रट रहे थे, गरीबों के खाते में पैसे कब आएंगे और अब जन धन खाते में गरीबों को पैसा दे रहे हैं तो आलोचना ! मोदी विरोधी केवल बेपेंदी के लोटे की तरह इधर उधर लुढ़क रहे हैं ! चाणक्य का कथन है कि भ्रष्ट और मूर्ख लोंगो के हाथों में सत्ता जाने से कहीं ज्यादा बेहतर निरंकुश और तानाशाही पूर्ण हाथों में शासन जाना है ! ईश्वर ने निसन्देह भारत पर बड़ी कृपा की है ! सादर आभार !

    December 6, 2016

    vaise bhi yah desh sadguru ji prajatantr se nahi chal sakta यहाँ tanashahi hi chal sakti है aur ye ab भारतीयों ने साबित कर दिया है मोदी जी की चापलूसी करके.परिक्रिया हेतु आभार


topic of the week



latest from jagran