! मेरी अभिव्यक्ति !

तू अगर चाहे झुकेगा आसमां भी सामने, दुनिया तेरे आगे झुककर सलाम करेगी . जो आज न पहचान सके तेरी काबिलियत कल उनकी पीढियां तक इस्तेकबाल करेंगी .

678 Posts

2148 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 12172 postid : 1099026

मीडिया की तो राम ही भली करें

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Image result for lalu and rahul gandhi image

मीडिया आजकल क्या कर रहा है किसी की भी समझ में नहीं आ रहा है किन्तु इतना साफ है कि मीडिया अपनी भूमिका का सही निर्वहन नहीं कर रहा है .सच्चाई को निष्पक्ष रूप से सबके सामने लाना मीडिया का सर्वप्रमुख कार्य है किन्तु मीडिया सच्चाई को सामने लाता है घुमा-फिरा कर .परिणाम यह होता है कि अर्थ का अनर्थ हो जाता है और समाचार जनता में भ्रम की स्थिति पैदा करता है .अभी २ दिन पहले की ही बात है लालू यादव ने राहुल गांधी की रैली में शामिल होने से इंकार किया तो समाचार प्रकाशित किया गया अमर उजाला दैनिक के मुख्य पृष्ठ ३ पर जो कि १ व् २ पेज पर विज्ञापन के कारण नंबर ३ ही था देखिये-

{राहुल की रैली में नहीं जाएंगे लालू
पटना। राजद प्रमुख लालू प्रसाद यादव ने कांग्रेस के उपाध्यक्ष राहुल गांधी के साथ मंच साझा करने में असमर्थता जाहिर की है। इसलिए वह अपनी जगह अपने छोटे बेटे तेजस्वी यादव को 19 सितंबर को चंपारण में आयोजित राहुल की रैली में भेजेंगे। विस्तृत पेज 14 पर}
और वे राहुल गांधी के साथ मंच साझा क्यों नहीं करेंगे इसका कारण छिपाकर पेज १४ पर प्रकाशित किया गया जिसमे इसका मुख्य कारण बताया गया है और वह है लालू द्वारा राहुल गांधी के साथ मंच साझा करने के बहाने अपने छोटे बेटे तेजस्वी यादव को राजनीति के गलियारों में लांच करना  -
{राहुल के साथ मंच पर दिखेंगे राजद के युवराज
पटना (ब्यूरो)। राजद प्रमुख लालू प्रसाद यादव ने कांग्रेस के उपाध्यक्ष राहुल गांधी के साथ मंच साझा करने में असमर्थता जाहिर की है। इसलिए वह अपनी जगह अपने छोटे बेटे तेजस्वी यादव को 19 सितंबर को चंपारण में आयोजित राहुल की रैली में भेजेंगे। हालांकि बिहार के सीएम नीतीश कुमार इस रैली में शामिल होंगे।
कहा जा रहा है कि लालू कांग्रेस उपाध्यक्ष के साथ राजद के युवराज को मंच पर दिखाना चाहते हैं। राहुल की रैली से लालू का किनारा होना राजनीतिक गलियारों में चर्चा का विषय जरूर है, लेकिन राजद का कहना है कि लालू चुनाव की घोषणा होने के बाद काफी व्यस्त हैं और यही एक मात्र वजह है, जिसके कारण वह रैली में शामिल नहीं हो पाएंगे।}
लेकिन मीडिया क्यों राहुल गांधी की प्रमुखता दिखायेगा वह तो अपने कुछ पूर्वग्रहों से ग्रस्त है और इसलिए वह राहुल गांधी को नीचे दिखाने का कोई मौका चूकना नहीं चाहता .इसलिए वह जब देखो राहुल गांधी के खिलाफ अपने चुके हुए तीर चलाता ही रहता है .
यही नहीं कि मीडिया ऐसा किसी गलतीवश करता है असल में मीडिया को अब अपना काम करना ही शायद आता नहीं है क्योंकि मीडिया को अब इंसान इंसान नज़र आता ही नहीं है अगर वह पढ़ने लिखने वाली उम्र का है तो अगर उसके साथ कोई घटना होती है तो वह समाचार  में छात्र ही लिखा जायेगा चाहे घटना के वक़्त स्कूल का कोई मतलब न हो ..मुज़फ्फरनगर में घर से अपहृत एक बच्चे की हत्या का समाचार जब समाचारपत्र में आया तो उसमे उसे छात्र लिखा गया जबकि घटना शाम की थी और बच्चा घर के बाहर साइकिल चला रहा था .ऐसे ही मेरठ में एक युवक की हत्या हो गयी और वह उस वक्त अपनी स्कूटी खड़ी कर चला गया था जब शाम तक नहीं लौटा तो ध्यान दिया गया और उसकी हत्या का पता चला इसमें कॉलिज का केवल इतना मतलब कि वह मेरठ कॉलिज में पढता था बस इतने मात्र से समाचार का शीर्षक हो गया मेरठ कॉलिज के छात्र की गोली मरकर हत्या .
अब ऐसे मीडिया का क्या किया जाये इसके लिए तो ये भी नहीं कह सकते कि सुबह का भूला शाम तक घर लौट आये तो उसे भूला नहीं कहते क्योंकि यह तो अपने घर लौटने वाला ही नहीं है .इसका तो बस एक ही चारा है हमारे पास कि इसकी गलतियों को रोज दरकिनार कर अपनी ही सुध लें .
शालिनी कौशिक
[कौशल ]



Tags:

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

1 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

Deepak Kapoor के द्वारा
September 19, 2015

शालिनी जी, नमस्कार, मैं आपका ये दूसरा लेख पढ़ रहा हूँ और पहली बार कमेंट कर रहा हूँ । एक अच्छा मुद्दा उठाया है आपने, तमाम चैनल्स ही कई कॉर्पोरेट घराने के हैं, सच दिखाने की बात से मीडिया दूर होता जा रहा है अब तो जैसे हर चैनल किसी न किसी राजनितिक पार्टी का फेवर करता साफ़ नज़र आता है । एक अच्छे लेख के लिए आपको धन्यवाद् । आपसे विनम्र निवेदन है की २७ सितम्बर को विश्व पर्यटन दिवस पर जरुर पढ़ें – हिंदुस्तान का सबसे खूबसूरत गुमनाम जिला – इस गुमनाम जिले की खूबसूरती आपका मन मोह लेगी । दीपक कपूर http://www.superawakening.com


topic of the week



latest from jagran