! मेरी अभिव्यक्ति !

तू अगर चाहे झुकेगा आसमां भी सामने, दुनिया तेरे आगे झुककर सलाम करेगी . जो आज न पहचान सके तेरी काबिलियत कल उनकी पीढियां तक इस्तेकबाल करेंगी .

720 Posts

2175 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 12172 postid : 946911

भुलाकर मज़हबी मुलम्मे ,मुहब्बत से गले मिल लें ,- तभी हो ईद मुबारक

Posted On: 17 Jul, 2015 social issues,Celebrity Writer,Special Days में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

मुबारकबाद सबको दूँ ,जुदा अंदाज़ हैं मेरे ,

महक इस मौके में भर दूँ ,जुदा अंदाज़ हैं मेरे ,

*********************************************

मुब्तला आज हर बंदा ,महफ़िल -ए -रंग ज़माने में ,

मिलनसारी यहाँ भर दूँ ,जुदा अंदाज़ हैं मेरे ,

*************************************************************

मुक़द्दस दूज का महताब ,मुकम्मल हो गए रमजान ,

शमा हर रोशन अब कर दूँ ,जुदा अंदाज़ हैं मेरे ,

**********************************************************


रहे मज़लूम न कोई ,न हो मज़रूह हमारे से ,

मरज़ हर दूर अब कर दूँ ,जुदा अंदाज़ हैं मेरे .

*************************************************************


ईद खुशियाँ मनाने को ,ख़ुदा का सबको है तौहफा ,

मिठास मुरौव्वत की भर दूँ ,जुदा अंदाज़ हैं मेरे .

********************************************************************

भुलाकर मज़हबी मुलम्मे ,मुहब्बत से गले मिल लें ,

मुस्तहक यारों का कर दूँ ,जुदा अंदाज़ हैं मेरे .

***************************************************************



फ़तह हो बस शराफत की ,तरक्की पाए बस नेकी ,

फरदा यूँ हरेक कर दूँ ,जुदा अंदाज़  हैं मेरे .

****************************************************************

फरहत बख्शे फरिश्तों को ,खुदा खुद ही यहाँ आकर ,

फलक इन नामों से भर दूँ ,जुदा अंदाज़ हैं मेरे .

***************************************************************

फ़िरासत से खुदा भर दे ,बधाई ”शालिनी ”जो दे ,

फिर उसमे फुलवारी भर दूँ ,जुदा अंदाज़ हैं मेरे .

*******************************************************


शब्दार्थ -मजलूम -अत्याचार से पीड़ित ,मजरूह-घायल ,मुरौव्वत-मानवता ,मुलम्मे-दिखावे ,मुस्तहक-अधिकारी ,फरदा -आने वाला  दिन ,फरहत-ख़ुशी ,फरिश्तों -सात्विक वृति वाला व्यक्ति। फ़िरासत -समझदारी।

एक बार फिर आप सभी को ईद मुबारक

शालिनी कौशिक

[कौशल ]




Tags:

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

0 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments


topic of the week



latest from jagran