! मेरी अभिव्यक्ति !

तू अगर चाहे झुकेगा आसमां भी सामने, दुनिया तेरे आगे झुककर सलाम करेगी . जो आज न पहचान सके तेरी काबिलियत कल उनकी पीढियां तक इस्तेकबाल करेंगी .

670 Posts

2139 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 12172 postid : 915808

बसाने में एक बगिया , कई जीवन लग जाते हैं .

  • SocialTwist Tell-a-Friend

सरकशी बढ़ गयी देखो, बगावत को बढ़ जाते हैं ,
हवाओं में नफरतों के गुबार सिर चढ़ जाते हैं .
…………………………………………………………………
मुहब्बत मुरदार हो गयी,सियासी चालों में फंसकर ,
अब तो इंसान शतरंज की मोहरें नज़र आते हैं.
………………………………………………………………..
मुरौवत ने है मोड़ा मुंह ,करे अब क़त्ल मानव को ,
सियासत में उलझते आज इसके कदम जाते हैं .
………………………………………………………………
हुई मशहूर ये नगरी ,आज जल्लाद के जैसे ,
मसनूई दिल्लगी से नेता, हमें फांसी चढाते हैं .
………………………………………………………………..
कभी महफूज़ थे इन्सां,यहाँ जिस सरपरस्ती में ,
सरकते आज उसके ही ,हमें पांव दिख जाते हैं .
………………………………………………………………….
सयानी आज की नस्लें ,नहीं मानें बुजुर्गों की ,
रहे जो साथ बचपन से ,वही दुश्मन बन जाते हैं .
………………………………………………………………….
जलाते फिर रहे ये आशियाँ ,अपने गुलिस्तां में ,
बसाने में एक बगिया ,कई जीवन लग जाते हैं .
……………………………………………………………….
उभारी नफरतें बढ़कर ,सियासत ने जिन हाथों से ,
उन्हीं को सिर पर रखकर ,हमें हिम्मत बंधाते हैं .
……………………………………………………………………….
लगे थे जिस जुगत में ”शालिनी”के ये सभी दुश्मन ,
फतह अपने इरादों में ,हमारे दम पर पाते हैं .
………………………………………………………………
शब्दार्थ-मुरदार -मरा हुआ ,बेजान ,
मसनूई -बनावटी ,दिल्लगी-प्रेम ,सरकशी-उद्दंडता ,सरपरस्ती -सहायता .

शालिनी कौशिक
[कौशल ]

…………………………………………………………..



Tags:

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

2 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

Neha Verma के द्वारा
June 22, 2015

आदरणीया शालिनी जी हृदयीस्पर्शी कविता के लिए बधाई आपको. बसाने में एक बगियाँ, कई जीवन लग जाते हैं… उचित ही हैं.

shakuntlamishra के द्वारा
June 22, 2015

शालिनी जी बहुत सुन्दर ! रहे जो साथ बचपन से वही दुश्मन बन जाते है /बसाने में एक बगिया कई जीवन लग जाते हैं ! सार्थक कविता के लिये बधाई !


topic of the week



latest from jagran