! मेरी अभिव्यक्ति !

तू अगर चाहे झुकेगा आसमां भी सामने, दुनिया तेरे आगे झुककर सलाम करेगी . जो आज न पहचान सके तेरी काबिलियत कल उनकी पीढियां तक इस्तेकबाल करेंगी .

669 Posts

2139 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 12172 postid : 877840

एन.जी.टी.सुधारेगा लातों के भूतों को

Posted On: 28 Apr, 2015 Others,social issues,Celebrity Writer में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

NGT announces Rs 5,000 fine for open burning of leaves, garbage in Delhi

New Delhi: Stepping up its effort to curb pollution, the National Green Tribunal (NGT) on Tuesday announced a fine of Rs 5,000 on individuals spotted burning garbage, leaves, plastic, rubber etc in open areas in parts of Delhi and the National Capital Region (NCR).

एक महत्वपूर्ण फैसला लेते हुए मंगलवार २८ अप्रैल को राष्ट्रीय हरित प्राधिकरण ने कचरा ,पत्तियां ,प्लास्टिक व् रबर इत्यादि को खुले में जलाये जाने पर दिल्ली व् एन.सी.आर.में  ५००० रूपये का जुर्माना लगाया है .एक स्वस्थ पर्यावरण के लिए यह एक सराहनीय व् समय के अनुसार उपयोगी कदम है क्योंकि आज स्थिति ये आ गयी है कि अगर कोई भी काम सफलतापूर्वक किया जाना है तो उसके लिए जनता व् सम्बंधित विभाग को जुर्माने की चपेट में लेना ही होगा क्योंकि यहाँ अब एक ही कहावत के अनुसार काम किया जा सकता है और वह है ”लातों के भूत बातों से नहीं मानते ” और ऐसे लातों के भूत हमें आज अपने आस पास बहुसंख्या में दिखाई देते हैं .जहाँ तहाँ कचरे इत्यादि के ढेर और उनके निबटारे के लिए उसे आग लगा देना एक सुविधाजनक निबटारे के रूप में उपयुक्त साधन माना जा रहा है इतना अवश्य है कि राष्ट्रीय हरित प्राधिकरण द्वारा अभी इसे बहुत छोटे क्षेत्र में इस्तेमाल किया गया है इसकी जद में पूरे देश को लाया जाना बहुत ज़रूरी है जिससे पूरे देश का पर्यावरण सही रूप में लाया जा सके  हाँ इतना ज़रूर है कि दिल्ली के साथ एन.सी.आर .को जोड़कर बहुत ही प्रशंसनीय कदम उठाया गया है और अब कम से कम वे प्रबुद्ध जन, जो पिछले दिनों पश्चिमी उत्तर प्रदेश के बहुत से शहरों को एन.सी.आर. से जोड़ने के लिए ज्ञापन दे रहे थे ,आंदोलन कर रहे थे ,इस तरफ अपना ध्यान केंद्रित कर अपना कोई कर्तव्य भी ग्रहण करने की ओर उन्मुख होंगे .

शालिनी कौशिक

[कौशल ]



Tags:

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

2 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

vaibhavdubey के द्वारा
April 29, 2015

सत्य़ वचन शालिनी  जी- लातों के भूत बातों से नहीं मानते।

Shobha के द्वारा
April 29, 2015

प्रिय शालनी जी बिलकुल ठीक बात आर्थिक दंड ही एकमात्र रास्ता रह गया है डॉ शोभा


topic of the week



latest from jagran