! मेरी अभिव्यक्ति !

तू अगर चाहे झुकेगा आसमां भी सामने, दुनिया तेरे आगे झुककर सलाम करेगी . जो आज न पहचान सके तेरी काबिलियत कल उनकी पीढियां तक इस्तेकबाल करेंगी .

678 Posts

2148 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 12172 postid : 868264

बालियान खाप सम्मान की हक़दार

Posted On: 10 Apr, 2015 Others,social issues,Celebrity Writer में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Image result for naresh tikait in rasulpur jatan image

Image result for naresh tikait in rasulpur jatan image

Balyan Khap

Balyan Khap khap has 100 villages. Its head village is Sisauli in muzaffarnagar. Its main villages are: Sauram, Harsauli , Barbala. Ch. Mahendra Singh Tikait – President, Bharatiya Kisan Union, is from this khap. The famous jat historian Choudhary Kabul Singh was from this khap and It has been mentioned in the chronicles of Jat ‘Sarv Khap’, which are still preserved with Chaudhry Kabul Singh. The great Bappa Rawal was their ancestor. James Tod has called them Balvanshi. [7]

खाप वर्तमान में सर्वाधिक चर्चा में रहती हैं . अपने विवादास्पद फरमानों को लेकर -कभी लड़कियों के मोबाईल पर पाबन्दी तो कभी जींस पर ;इन फरमानों को आधुनिकता के मद्देनज़र भले ही विवाद की श्रेणी में रख दिया जाये किन्तु समाज के गिरते नैतिक व् चारित्रिक स्तर को सँभालने हेतु सही ही कहा जायेगा और भले ही इन फरमानों को विवादित श्रेणी में रख दिया जाये किन्तु ९ अप्रैल २०१५ को शाहपुर के रसूलपुर जाटान में बालियान खाप ने सम्पूर्ण भारतीय समाज के सामने एक मार्गदर्शक आदर्श स्थापित कर दिया .
शाहपुर थाना क्षेत्र के रसूलपुर जाटान निवासी बालियान खाप का एक युवक सेना में तैनात है .शामली के गाँव   कासमपुर निवासी ग्रामीण ने अपनी बेटी का रिश्ता उससे तय किया था .२४ अप्रैल को शादी थी और उससे पहले वर पक्ष द्वारा शादी में गाड़ी मांगने की बात सामने आई .इसी के मद्देनज़र बालियान खाप ने वर पक्ष को दहेज़ मांगने पर सजा के रूप में दो साल के लिए शादी पर पाबन्दी लगा दी और ८१ हज़ार रूपये का जुर्माना किया .जुर्माने का भुगतान पंचायत में ही लड़की पक्ष को कराया गया .
आज आधुनिकता की ओर बढ़ रहे समाज में इन खापों को पिछड़े होने का दर्ज प्राप्त है और इनके द्वारा ऐसा ऐसा कदम उठाया जाना आज की आधुनिकता में रँगे उस समाज के मुंह पर करारा तमाचा है जो करते तो बात आधुनिकता की हैं और शादी के नाम पर बेटे को बेचते हैं और वह भी उस समय में जब लड़कियां योग्यता में लड़कों से चार कदम आगे ही नज़र आ रही हैं .दहेज़ जैसी कुप्रथा को समाप्त करने की दिशा में यह निर्णय एक मील के पत्थर के समान है और वर पक्ष के लालच को इतने अनूठे फरमान द्वारा लगभग दफ़न ही कर दिए जाने के लिए बालियान खाप की प्रशंसा सभी को मुक्त कंठ से करनी चाहिए .

शालिनी कौशिक
[कौशल ]

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

1 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

Shobha के द्वारा
April 11, 2015

प्रिय शालनी जी खाप पंचायत का रूप कितना अच्छा हैं उपयोगी लेख के लिए धन्यवाद डॉ शोभा


topic of the week



latest from jagran