! मेरी अभिव्यक्ति !

तू अगर चाहे झुकेगा आसमां भी सामने, दुनिया तेरे आगे झुककर सलाम करेगी . जो आज न पहचान सके तेरी काबिलियत कल उनकी पीढियां तक इस्तेकबाल करेंगी .

686 Posts

2152 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 12172 postid : 808245

भविष्यवाणी-स्मृति छोड़ेंगी भाजपा ?

  • SocialTwist Tell-a-Friend

ज्योतिषी पंडित

क्या सच होगी ज्योतिषी की भविष्यवाणी, स्मृति बनेंगी राष्ट्रपति?


स्मृति ईरानी जिस दिन से मानव संसाधन विकास मंत्री बनी हैं एक दिन भी ऐसा नहीं गया होगा जिस दिन उन्होंने कुछ किया हो और वह चर्चा का विषय न बना हो .ऐसे में वे ज्योतिषी के पास जाएँ और चर्चा से अछूती रहे ऐसा हो ही नहीं सकता और यही हुआ भी .
स्मृति ईरानी ज्योतिषी नाथुलाल व्यास के पास गयी और ज्योतिषी ने भविष्यवाणी कर दी की स्मृति राष्ट्रपति बनेंगी किन्तु इससे आगे का वे बताना भूल गए या ये कहें कि इस सम्बन्ध में चुप्पी साध गए कि इसके लिए स्मृति का भविष्य  भाजपा में नहीं है क्योंकि भाजपा न तो महिलाओं को प्रधानमंत्री बनाती है न राष्ट्रपति यहाँ तक कि वह तो महिला उम्मीदवार का समर्थन तक नहीं करती और यह हम नहीं बल्किस्वयं भाजपा का इतिहास और वर्तमान बताता है .

Indira Priyadarshini Gandhi (Hindustani: [ˈɪnːdɪrə ˈɡaːnd̪ʱi] ( listen); néeNehru; 19 November 1917 – 31 October 1984) was the third Prime Minister of India and a central figure of the Indian National Congress party. Gandhi, who served from 1966 to 1977 and then again from 1980 until her assassination in 1984, is the second-longest-serving Prime Minister of India and the only woman to hold the office.

PratibhaIndia.jpg

Pratibha Devisingh Patil (About this sound pronunciation (help·info)) (born 19 December 1934) is an Indian politician who served as the 12th President of India from 2007 to 2012; she was the first woman to hold the office. She was sworn in as President on 25 July 2007, succeeding Abdul Kalam, after defeating her rivalBhairon Singh Shekhawat. She retired from the office in July 2012. She was succeeded as President by Pranab Mukherjee.[1]

Patil is a member of the Indian National Congress (INC) and was nominated for the presidency by the governing United Progressive Alliance and Indian Left.


Lakshmi Sahgal.jpg
In 2002, four leftist parties – the Communist Party of India, the Communist Party of India (Marxist), the Revolutionary Socialist Party, and the All India Forward Bloc – nominated Sahgal as a candidate in the presidential elections. She was the sole opponent of A.P.J. Abdul Kalam, who emerged victorious.[6]
अभी तक देश की  महिला प्रधानमंत्री का गौरव श्रीमती इंदिरा गांधी जी को ही प्राप्त है और देश को महिला प्रधानमंत्री देने का श्रेय कांग्रेस को ऐसे ही देश को महिला राष्ट्रपति देने का गौरव भी कांग्रेस नेतृत्व वाले दल यू .पी.ए. को ही प्राप्त  है  श्रीमती प्रतिभा पाटिल जी के रूप में देश को पहली महिला राष्ट्रपति भी भाजपा से इतर दलों द्वारा ही प्राप्त हुई हैं यही नहीं भाजपा तो इन पदों के लिए महिला उम्मीदवार का समर्थन तक नहीं करती .कैप्टेन लक्ष्मी सहगल जो राष्ट्रपति पद के लिए वाम दलों की उम्मीदवार थी उनके खिलाफ भाजपा ने अपने उम्मीदवार के रूप में ए.पी.जे.अब्दुल कलाम जी को ही बनाये रखा .और यही नहीं इस बार के चुनावों में श्रीमती सुषमा स्वराज जी जो कि भाजपा की ओर से प्रधानमंत्री पद की नैसर्गिक उम्मीदवार होनी चाहियें थी क्योंकि वे पूर्व में केंद्रीय मंत्री भी रह चुकी थी और  15 वीं लोकसभा  में पार्टी की विपक्ष की नेता भी ऐसे में ये उनका हक़ बैठता था कि वे पार्टी की ओर से प्रधानमंत्री पद की प्रत्याशी बनें किन्तु भाजपा ने न कभी महिलाओं को आगे बढ़ाया है और न ही बढ़ाएगी ऐसे में ये ज्योतिषी  की भविष्यवाणी से साफ हो गया है कि स्मृति भविष्य में भाजपा का दामन छोड़ देंगी क्योंकि राष्ट्रपति तभी तो बनेंगी जब अन्य दल से जुड़ेंगी .
शालिनी कौशिक
[कौशल ]



Tags:

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 3.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

2 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

brijeshprasad के द्वारा
November 26, 2014

शालिनी जी, आप किस झगङे में उलझ गयी। भविष्य वाणी एक वैज्ञानिक विधा है। हमारी सारी योजनाएं भविष्य वक्ताओं पर ही निर्भर हो कर मूर्त रूप लेती है। फिर इतना आश्चर्य क्यों ? दूसरी बात – यह मोदी युग है – ये राष्ट्रवादी नीति के अनुयाई है परिवारवादी नीति के नहीं। सब आप जैसा चाहती है वैसा ही होगा। निश्चिंत रहे।

Madan Mohan saxena के द्वारा
November 26, 2014

राष्ट्रपति को स्त्री पुरुष के चश्मे से देखना ठीक नहीं है दुनिया जानती है की प्रतिभा पाटिल कैसी राष्ट्रपति रहीं हैं


topic of the week



latest from jagran