! मेरी अभिव्यक्ति !

तू अगर चाहे झुकेगा आसमां भी सामने, दुनिया तेरे आगे झुककर सलाम करेगी . जो आज न पहचान सके तेरी काबिलियत कल उनकी पीढियां तक इस्तेकबाल करेंगी .

685 Posts

2152 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 12172 postid : 762886

नारी से भी वही मिलेगा जो तुम दोगे साथ निभाकर .

Posted On: 13 Jul, 2014 social issues,कविता,Celebrity Writer में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

आज करूँ आगाज़ नया ये अपने ज़िक्र को चलो छुपाकर ,
कदर तुम्हारी नारी मन में कितनी है ये तुम्हें बताकर .
………………………………………………………………………………………………….
जिम्मेदारी समझे अपनी सहयोगी बन काम करे ,
साथ खड़ी है नारी उसके उससे आगे कदम बढाकर .
…………………………………………………………………….
बीच राह में साथ छोड़कर नहीं निभाता है रिश्तों को ,
अपने दम पर खड़ी वो होती ऐसे सारे गम भुलाकर .
…………………………………………………………………………………………………..
कैद में रखना ,पीड़ित करना ये न केवल तुम जानो ,
जैसे को तैसा दिखलाया है नारी ने हुक्म चलाकर .
………………………………………………………………………………………………
धीर-वीर-गंभीर पुरुष का हर नारी सम्मान करे ,
आदर पाओ इन्हीं गुणों को अपने जीवन में अपनाकर .
…………………………………………………………………………………………………
जो बोओगे वो काटोगे इस जीवन का सार यही ,
नारी से भी वही मिलेगा जो तुम दोगे साथ निभाकर .
……………………………………………………………………………………………………..
जीवन रथ के नर और नारी पहिये हैं दो मान यही ,
”शालिनी”करवाए रु-ब-रु नर को उसका अक्स दिखाकर .

शालिनी कौशिक
[WOMAN ABOUT MAN]

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

4 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

Sushma Gupta के द्वारा
July 16, 2014

बहुत सुन्दर, सार्थक एवं सन्देश-प्रद रचना.. वधाई शालिनी जी..

sadguruji के द्वारा
July 16, 2014

जीवन रथ के नर और नारी पहिये हैं दो मान यही , ”शालिनी”करवाए रु-ब-रु नर को उसका अक्स दिखाकर ! बहुत सार्थक और शिक्षाप्रद रचना ! आपको बधाई !

सच कहा आपने :)

Nirmala Singh Gaur के द्वारा
July 14, 2014

धीर-वीर-गंभीर पुरुष का हर नारी सम्मान करे , आदर पाओ इन्हीं गुणों को अपने जीवन में अपनाकर .एकदम सही सलाह पुरुषों की बेहतरी के लिए ,बहुत सटीक एवं उम्दा रचना शालिनी जी .


topic of the week



latest from jagran