! मेरी अभिव्यक्ति !

तू अगर चाहे झुकेगा आसमां भी सामने, दुनिया तेरे आगे झुककर सलाम करेगी . जो आज न पहचान सके तेरी काबिलियत कल उनकी पीढियां तक इस्तेकबाल करेंगी .

700 Posts

2169 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 12172 postid : 739311

जाति और पार्टी दोनों शर्मिंदा मोदी से .

  • SocialTwist Tell-a-Friend

”मेरी जाति नीची लेकिन राजनीति नहीं .”कहकर मोदी ने भले ही राजनीति में एक और नयी चाल खेली हो किन्तु इस वक्तव्य के उच्चारण से उन्होंने जिस जाति से वे आते हैं उस जाति से जुड़े लोगो का सिर शर्म से नीचे किया है .

मोदी जिस जाति से जुड़े हैं उसके बारे में बार बार मायावती जी के द्वारा पूछे जाने पर भी वे उल्लेख नहीं करते किन्तु प्रियंका गांधी के ”नीच राजनीति ”कथन में से अपनी पसंद का नीच शब्द उन्होंने चुना और उसका खूब उल्लेख कर सारे में अपनी जाति को नीच बताया जबकि आज न तो भारतीय संविधान में किसी भी जाति के लिए ऐसे किसी शब्द का कोई स्थान है और न ही जिन भगवान राम का अपनी सभा में पांच-पांच बार नाम लेकर वे वोट की राजनीति कर रहे हैं ,जो कि उनके अनुसार वे नहीं करते ,उनके जीवन में भी इस शब्द का कोई स्थान नहीं रहा .हमें याद है कि रामानंद सागर की रामायण देखते हुए जब हम उसमे श्री राम की वन आगमन की लीला देखते हैं तो उसमे भगवान राम सर्वप्रथम माता सीता ,भ्राता लक्ष्मण और मित्र निषाद राज गुह के साथ भरद्वाज मुनि के आश्रम में पहुँचते हैं और वहां आसन पर विराजते हैं ऐसे में निषाद राज गुह जब नीचे बैठने लगते हैं तब भरद्वाज मुनि उन्हें प्रभु श्रीराम के बराबर में आसन देते हैं तब निषाद राज कहते हैं कि हम नीच हैं तो तत्क्षण भरद्वाज मुनि उन्हें टोकते हैं और कहते हैं कि प्रभु का मित्र होने पर तुम अपने को नीच कैसे कहते हो ….और प्रभु ने नीच तो किसी को रहने ही नहीं दिया …”फिर उन भगवान राम के नाम का उच्चारण करने वाले मोदी कैसे अपनी राजनीति चमकाने के लिए अपनी जाति को नीच कहकर शर्मिंदा कर सकते हैं ?जबकि प्रियंका गांधी का कटाक्ष सभी जानते हैं कि आज के दौर की राजनीति के निम्न स्तर को  लेकर था न कि मोदी या किसी और की जाति को लेकर ,कमाल है ये बात मायावती जी की समझ में आ सकती है किन्तु बुद्धिमानों के शंहशाह बनने वाले भाजपाइयों की समझ में नहीं ,सब जानते हैं कि जो बात मायावती जी कह रही हैं सही भी वही  है किन्तु चुनाव के आखिरी दौर में अपनी नैया को कैसे भी करके पार लगाने की कोशिश के लिए उन्हें प्रियंका को ही घेरना था क्योंकि आज प्रियंका के आगमन ने भाजपाइयों की नींद उड़ाई हुई है और भाजपाई कैसे भी करके उन्हें जनता की नज़र में गिराने में लगे हैं सुब्रमनियन स्वामी उन्हें शराबी व् कृतघ्न बेटी कहकर तो उमा भारती कभी वाड्रा की घरवाली तो कभी राखी सावंत कहकर अपमानित करने की चेष्टा करती हैं क्योंकि प्रियंका ने इन लोगों को सीधे घेरा है न कि इस तरह घुमा फिराकर और ये बात इनसे बर्दाश्त नहीं हो रही है और होगी भी कैसे जिनकी नैया की बागडोर ही ऐसे हाथों में हो जो ऊपर से राम राम कहता फिरे और अंदर से अपने मन में -

”एकोअहम द्वितयो न अस्ति ,न भूतो न भविष्यति .’

कहकर स्वयं रावण बनकर फिरता हो ,जो अपने सामने राम को देखकर भी अपने झूठे अहंकार को लेकर उन्हें ही दुर्दशा में घिरे दिखाने की चेष्टा करता हो ,रावण ने राम के साथ कभी श्री शब्द का उच्चारण नहीं किया और उनका वनवासी कहकर वैसे ही मखौल उडाता फ़िर जैसे आज मोदी राहुल गांधी का मखौल उड़ने की चेष्टा करता है और राहुल गांधी राम की तरह उसके सामने उसकी वास्तविकता रखते हैं और नीच शब्द को लेकर की जाने वाली उसकी राजनीति का करारा जवाब उसी तरह देते हैं जैसे राम ने युद्ध के दौरान रावण को दुर्दशा का असली परिचय दिया था ,राहुल गांधी ने नीच शब्द को जो परिभाषा दी है उसे राजनीति के मैदान में आदर्श ही कहा जायेगा जिसमे  वे सीधी सोच रखते हुए कहते हैं कि

”कोई जाति नीच नहीं होती ,नीच सोच व् नीच कर्म होते हैं .”

यह भारतीय ज्ञान व् आध्यात्म की परिभाषा है जो कि राहुल गांधी ने इन भाजपाइयों द्वारा नमूना ,पप्पू व् बुद्धू कहे जाने के बाद दी है और मोदी इसे अपनी ही तरह अपने रंग में रंगकर मुखौटों में ढालकर वोट में बदलना चाह रहे हैं  और राहुल गांधी ने उन्हें फिर एक मौका दिया है तो अब तो उनकी तड़प और बढ़ जानी चाहिए और उनकी तरफ से अब यही बयान आना चाहिए कि

”मेरी जाति नीची हो सकती है ,सोच व् कर्म नहीं ,”

और आश्चर्य है कि प्रियंका गांधी की नीच राजनीति की टिप्पणी पर तो उनपर दो-दो मुक़दमे दर्ज़ हो गए और मोदी के द्वारा स्वयं की जाति को ही नीच कहने पर उनपर एक बी मुकदमा दर्ज़ नहीं हुआ जबकि मोदी खुएलाम सम्पूर्ण जाति को नीच कह रहे हैं जिसकी इजाजत उन्हें भारतीय संविधान नहीं देता और इस तरह तो मोदी अपनी जाति को शर्मिंदा कर रहे हैं और

”प्राण जाये पर वचन न जाये ”

जैसी रघुकुल रीति का उल्लेख कर अपनी पार्टी को ,क्योंकि रघुकुल रीति से जितनी  इनकी पार्टी भारतीय जनता पार्टी बंधी है इतना कोई नहीं .

राम मंदिर बनाने के नाम पर सत्ता हासिल करने वाली ये पार्टी इस दम पर एक बार तेरह दिन ,दूसरी बार तेरह महीने व् तीसरी बार पूरे पांच साल का शासन पा गयी और राम मंदिर के नाम पर एक ईंट तक आज तक भी वहां नहीं रख सकी जबकि वह यही वचन देकर सत्ता में आई थी और अब लोकसभा चुनाव के सात दौर बीतने के बाद अपनी नैया को डूबता देख भाजपा का झंडा बुलंद करने वाले मोदी रघुकुल रीति का हवाला देकर जनता को वचन न निभाने वालों को सबक सीखने को कह रहे हैं और इस तरह १९९२ में बेवकूफ बनायीं गयी जनता को फिर बेवकूफ बनाने की कोशिश कर रहे हैं और इस तरह स्वयं ही अपनी राजनीति की नीचता को साबित कर रहे हैं जो जाति के मामले में राम को दरकिनार कर अपनी सोच को ऊपर रखते हुए अपनी जाति को अपनेआप ही नीच  कहकर उसे दूसरों  का नाम देकर उबलने के लिए प्रेरित रहे हैं और इस तरह सम्पूर्ण जाति को खून के घूँट पिए जाने को विवश कर रहे हैं और दूसरी तरह राम को अपने नैया का खेवनहार बनने का प्रयत्न कर रहे हैं और रघुकुल रीति का उच्चारण कर अपने को राम भक्त दिखाने की चेष्टा कर रहे हैं जबकि साफ तौर पर न वे राम भक्त हैं न ही अपनी जाति के नायक क्योंकि उनके जीवन का मूलमंत्र जहाँ तक उनकी कार्यशैली से ज्ञात होता है वह यही है कि

”प्राण भी खाए और वचन न निभाए .”

शालिनी कौशिक

[कौशल ]



Tags:

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 3.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

3 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

ADVOCATE VISHAL PANDIT के द्वारा
May 9, 2014

बेशक शर्मिंदा हैं लोग पर कांग्रेस और उसकी मम्मी सोनिया और पप्पू से. प्रियंका कहती है कि राजीव गांधी शहीद है अबे कौन शहीद और कैसा शहीद. इलेक्शन कम्पैग्न के दौरान बम ब्लास्ट में मौत हुई थी अगर वो शहीद है तो देश में सभी बम ब्लास्ट से मरने वाले शहीद है वो अकेला नहीं. एयर फ़ोर्स ड्यूटी के दौरान जब जंग हुई थी तो सभी पायलट की ड्यूटी लगी थी चाहे वो एयर फ़ोर्स को हो या प्राइवेट लेकिन यही राजीव छुट्टी लेकर भाग आया था. शहीद भी शर्मिंदा होंगे राजीव का नाम अपनी लिस्ट में देखकर.

dhirchauhan72 के द्वारा
May 8, 2014

अब कोसने से कोई फायदा नहीं है काम हो चुका है ……जिसे जो चाहिए था मिल चुका है ! वाड्रा को जमीन , एन डी तिवारी को बेटा , मनु सिंघवी और दिग्विजय को आप समझ सकतीं है ……सोनिया गांधी और बाकी कोंग्रेसीभी अपना अपना मतलब निकाल चुके है कोयला से ले कर जितने घोटाले किये सारे मालामाल हो चुके है शीला दिक्षित जो जेल जा रहीं थीं राज्यपाल बन गयी हैं और क्या चाहिए …? मनमोहन जी अब शायद ही किसी काम के बचे थे ….राहुल बाबा भी जनता की मूर्खता बनी रही और मोदी ने भी कोंग्रेश की तरह वेवकूफ बनाया तो अगली बार प्रधानमंत्री बन जाएंगे ! प्रियंका अगर वाड्रा बनी रहीं तो भले ही रह जाएँ वरना वो भी प्रधानमंत्री बन जाएंगी …….थोड़ा इन्तेजार तो बनता है …….कितना लूटेंगे ….? थोड़ा आराम हो जाए तब तक दिग्विजय की शादी के मजे लो और राहुल बाबा जिनको भरी महफ़िल में पप्पियाँ मिल रहीं हैं अच्छा नहीं लगता शादी वादी करवाओ …..थोड़ा पोंगापन दूर हो !… जनता है फिर मूर्ख बनेगी ……बिना टेंशन के मस्त रहो ४-५ साल मजे लो छुट्टियां मनाओ ! जनता पर छोड़ दो ये जनतंत्र है राजा शाही तो नहीं ….? लालची और जल्द्बाजों का क्या हस्र होता है इंदिरा और राजीव से कोंग्रेसियो को सीखना चाहिए ! ये सब कुछ नहीं है एक समय चक्र है …….लेकिन अबकी बार मोदी सरकार !!!

    Imam Hussain Quadri के द्वारा
    May 9, 2014

    जब लीडर ही बेशर्म है तो उसके मांनने वाले कैसे होंगे सही बात है सबको तो सब मिल गया उमा भर्ती अटल बिहारी की शादी कब होगी और ये चलो कम से कम मोदी के पत्नी को हक़ तो मिल गया इस चुनाव से .अब तक मोदी किस पत्नी के साथ थे इस चुनाव ने मोदी की शादी करा दी ये सबसे अच्छी बात है धीरू जी जिस मोदी को शब्द समझ में नहीं आता वो दुनिया के इतने सारे देशों की भाषा कैसे समझेंगे जिनको भारत वासी का मानी मालूम नहीं है .


topic of the week



latest from jagran