! मेरी अभिव्यक्ति !

तू अगर चाहे झुकेगा आसमां भी सामने, दुनिया तेरे आगे झुककर सलाम करेगी . जो आज न पहचान सके तेरी काबिलियत कल उनकी पीढियां तक इस्तेकबाल करेंगी .

686 Posts

2152 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 12172 postid : 717346

सरज़मीन नीलाम करा रहे हैं ये

  • SocialTwist Tell-a-Friend

सरज़मीन नीलाम करा रहे हैं ये

सरफ़रोश बन दिखा रहे हैं ये ,

सरसब्ज़ मुल्क के बनने को सरबराह

सरगोशी खुले आम किये जा रहे हैं ये .

……………………………………

मैकश हैं गफलती में जिए जा रहे हैं ये

तसल्ली तमाशाइयों से पा रहे हैं ये ,

अवाम के जज़्बात की मज़हब से नज़दीकी

जरिया सियासी राह का बना रहे हैं ये .

……………………………………

ईमान में लेकर फरेब आ रहे हैं ये

मज़हब को सियासत में रँगे जा रहे हैं ये ,

वक़्त इंतखाब का अब आ रहा करीब

वोटें बनाने हमको चले आ रहे हैं ये .

……………………………………………..

बेइंतहां आज़ादी यहाँ पा रहे हैं ये

इज़हार-ए-ख्यालात किये जा रहे हैं ये ,

ज़मीन अपने पैरों के नीचे खिसक रही

फिकरे मुख़ालिफ़ों पे कैसे जा रहे हैं ये .

………………………………………….

फिरका-परस्त ताकतें उकसा रहे हैं ये

फिरंगी दुश्मनों से मिले जा रहे हैं ये ,

कुर्बानियां जो दे रहे हैं मुल्क की खातिर

उन्हीं को दाग-ए-मुल्क कहे जा रहे हैं ये .

……………………………………..

इम्तिहान-ए-तहम्मुल लिए जा रहे हैं ये

तहज़ीब तार-तार किये जा रहे हैं ये ,

खौफ का जरिया बनी हैं इनकी खिदमतें

मर्दानगी कत्लेआम से दिखा रहे हैं ये .

…………………………………………..

मज़रूह ज़म्हूरियत किये जा रहे हैं ये

मखौल मज़हबों का किये जा रहे हैं ये ,

मज़म्मत करे ‘शालिनी ‘अब इनकी खुलेआम

बेख़ौफ़ सबका खून पिए जा रहे हैं ये .

……………………………….

शब्दार्थ-सरसब्ज़-हरा-भरा ,सरबराह-प्रबंधक ,मैकश-नशे में ,गफलती-भूल में ,इंतखाब-चुनाव ,फिकरे-छलभरी बात ,तहम्मुल-सहनशीलता ,मज़रूह-घायल ,ज़म्हूरियत-लोकतंत्र ,सरगोशी -कानाफूसी-चुगली,

……………………

शालिनी कौशिक

[कौशल ]




Tags:

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 4.50 out of 5)
Loading ... Loading ...

2 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

Ritu Gupta के द्वारा
March 19, 2014

शालिनी जी सभी नेता जोंक कि तरह जो हमारा,देश अ खून चूस रहे है अच्छी कविता बधाई

ashfaqahmad के द्वारा
March 14, 2014

वाह वाह … अति सुन्दर


topic of the week



latest from jagran